Saturday, July 13, 2024
Blog Page 2

महात्मा की ये 10 बाते मानलों ,आप कभी दुखी नहीं होंगे

0
mahatma ki 10 bate motivation story
mahatma ki 10 bate motivation story

बहोत समय पहले की बात है , एक महात्मा किसी स्थान पर पर्णकुटीर बनाकर निवेश करते थे |

महात्मा परम दयालु शीलवान और निसप्राहि थे , महात्मा एकाग्रता के साथ ध्यान करते थे और भगवान् का भजन करते थे | तो दूसरी और अपने पास आये हुए दुखी लोगो के दुःख के निवारण भी अवश्य करते थे |

महात्माके सद्गुणों और सेवाकार्य से भगवान् बहुत प्रसन्न हुए | और भगवान् ने महात्माको वरदान देने , एक देवदूत को धरती पर भेजा | महात्माने देवदूत का ह्रदय से सत्कार किया , और देवदूत से आने का कारण पूछा |

देवदूतने महात्मासे कहा की हे महात्मा भगवान् आपकी भक्ति और सेवा कार्य से अति प्रसन्न है | इस लिए वे आपको वरदान में कोई दिव्य शक्ति देना चाहते है | उन्होंने मुझे आपके पास यह कहने के लिए भेजा है की , क्या आप लोगो की रोग मुक्त करनेकी शक्ति प्राप्त करना चाहेंगे |

महात्माने विनम्र उत्तर दिया , की हे देव भगवान मुज पर प्रसन्न है यही मेरे लिए सबसे बड़ा वरदान है | मुझे कोई दिव्य शक्ति नहीं चाहिए में , परमेश्वर के विधान में कोई हस्तक्षेप नहीं करना चाहता हु |

जब महात्माने रोग मुक्त शक्ति लेने से मना कर दिया , तो देवदूत ने कहा की तो आप दुष्टोंको सदमार्ग पर लाने की शक्ति ग्रहण करे | महात्माने पुनः विनम्रता से मना करते हुए कहा की , पापीओ को सदमार्ग पे लाना आप जैसे देवदूत का काम है | देवदूत बड़े आतचर्य में पड़ गए , की क्यों महात्मा ने इन शक्तिओं को लेने से मना कर दिया |

देवदूत महात्माकी भक्ति भावना और अनाशक्ति से बड़े प्रसन्न हुए | उन्होंने महात्मासे कहा हे महात्मा आपने तो मुझे बड़े संकट में डाल दिया है , ईश्वर की आज्ञा अनुसार में आपको कोई शक्ति दिए बिना स्वर्ग नहीं लोट शकता , कृपया आप कोई शक्ति अवश्य स्वीकार कीजिये |

महात्मा कुछ देर तक विचारमंद रहे , फिर उन्होंने देवदुत से कहा ठीक है अगर आप मुझे शक्ति देना ही चाहते है , तो ये वरदान दीजिये की भगवान जो भी मुझसे शुभ कर्म करवाना चाहते है , वे शुभ कर्म होते चले जाए |

में जहा से भी गुजरू वहा लोग रोग मुक्त हो जाए | देवदूत ने कहा तथास्तु ऐसाही हो और उसने महात्माकी परछाई को रोगमुक्त करनेकी शक्ति से संपन्न करदिया | फिर देवदूत वहासे चले गए |

ईधर महात्मा जहा भी जाते , वहा लोग स्वस्त और रोगमुक्त हो जाते | ना तो महात्माको ये पता चला और नाही लोगो को ये पता चलपाया की कैसे लोगो के रोग और कस्ट दूर हो जाते थे | महात्माको कभी बौद्ध नही हो पाया की वो ईश्वर के कितने करीब थे , सेवा तभी कहेलाती है जब सेवा करने वाले मनुष्यके मन में जराभी अभिमान ना रहे |

एक मशहूर कहावत है की दान करो तो ऐसे करो की अपने दूसरे हाथकोभी पता ना चले | क्युकी अभिमानी रहते सेवा संभव नही है , जो सेवा के बदले नाम की चाहत रखता है वे कभी सेवा के पात्र नही होते |

क्युकी क्रतग्यताका गुण प्रत्येक मनुष्यमे होता नही है | और प्रशंसा ना मिलने पर वो सेवा कार्य छोड़ देता है , सहानुभूति दया और उदारता के बिना सेवा संभव नहीं है |

क्युकी एक पेड़ की पहेचान उनके फल से होती है | और मनुष्य की पहेचान उनके कर्मो से , महात्मा के ये बात से हमें ये बोध लेना चाहिए की सेवा कार्य करो तो निस्वार्थ करो फल की चिंता न करो |

 

अब LIC देगी 60 की जगह 40 साल में पेन्सन | LIC Life Shiromani

0
LIC New Policy

इन दिनों बाजार में पैसा निवेश करने के लिए कई प्लान उपलब्ध है , लेकिन आप अपनी कमाई और पैसे को सुरक्षित निवेश करना चाहते है तो आप LIC Life Shiromani प्लान में निवेश कर सकते है | यह योजना एक गैर-लिंक्ड योजना है , जो न्यूनतम रु. 1 करोड़ की गारंटी यानि अगर आप इस प्लान में 1 रु जमा करते है तो । 1 करोड़ रु का विमा तक मिल सकता है |

क्या हे ये विमा योजना

LIC Life Shiromani योजना 19 दिसंबर 2017 से शुरू है | यह एक गैर-लिंक्ड योजना समिति भुक्तान मनी बैक योजन है । इस योजना में सरेंडर वेल्यू के तहत लोन दिया जाता है | इसके आलावा यह योजना गंभीर बीमारी का कवर विमा भी प्रधान करती है | इस योजना में तीन राइडर्स भी मोजूद है |

उन्ही के साथ निवेशक की अगर मौत हो जाती है तो उन्हें आर्थिक मदद दी जाती है , इस प्लान के 4 साल के प्रीमियम पर निचित अवधि के लिए निवेश कर सकते है । जिसके बाद आपको मैच्योरिटी यूनिट अमाउंट दिया जायेगा , प्रीमियम का भुगतान वार्षिक , अर्ध वार्षिक और त्रिमासिक कर सकते हो ।

इस योजना के कुछ लाभ इस प्रकार हैं

1.14 साल की पॉलिसी – 10 वी और 12 वी साल में बिमा रकम 30% फीसदी होगा ।
16 साल के लिए पॉलिसी – 12 वी और 14 साल में बिमा रकम 35% फीसदी होगी ।
18 साल की पॉलिसी के लिए आपको 14 वी और 16 साल की बिमा रकम 40% फीसदी मिलेगी |
20 साल की पॉलिसी -16 वी और 18 वी साल में बिमा राशि 45% फीसदी होगी |

इस पॉलिसी की विशेषताएं

इस पॉलिसी की न्यूतम आयु 18 वर्ष है , जब की अधिकतम प्रवेश आयु 55 साल है |
इसमें 14,16,18 और 20 साल 4 टर्म की पॉलिसी उपलब्ध है |
इस पॉलिसी की न्यूतम बिमा राशि 1 करोड़ है , और अधिकतम की कोई सिमा नहीं है ।
इस पॉलिसी में कमसे कम 4 साल के लिए प्रीमियम जमा किया जा सकता है ।
14 साल की पॉलिसी के लिए अधिकतम आयु 55 साल है ।
16 साल की पॉलिसी के लिए 51 साल |
18 साल की पॉलिसी के लिए 48 साल ।
20 साल की पॉलिसी के लिए 45 साल ।

वैकल्पिक लाभ

इस पॉलिसी में वैकल्पिक लाभ 15 गंभीर रोगो के लिए मिलता है |
यदि इनबिल्ट क्रिटिकल इलनेस बेनिफिट का भुगतान किया जाता है तो प्रीमियम स्थगित करनेका भी विकल्प उपलब्ध है |
पॉलिसीधारक भारत में उपलब्ध एलआईसी पैनल में शामिल स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं या प्रतिष्ठित अस्पतालों के माध्यम से मेडिकल सेकण्ड ओपेनियन प्राप्त करनेकी सुविधा उपलब्ध होगी ।
पॉलिसीधारक LIC एक्सीडेंट डेथ , या अपंगताका लाभ मिलता है |

Ampere Magnus Pro लॉन्च ने किया 121 किलोमीटर तक की रेंज वाला E-Scooter, पढ़ें कीमत ,फीचर्स की जानकारी

0
ampere-magnus-pro-fisher-price

आज भारत और पूरी दुनिया में इलेक्ट्रिक E-Schooter स्कूटर का मार्किट तेजी से बढ़ रहा है , जिसमे इलेक्ट्रिक वाहन में काफी तेजी और मांग है । और यही तेजी और लोगो की मांग के देखकर आज मार्किट में कही कंपनी ने इलेक्ट्रिक स्कूटर बनाना शुरू किया है |

आज ऐसा ही E-Schooter की हम बात करते है जो लम्बी रेंज , प्रीमियम कोलेटी के साथ कम रेट में उपलब्ध है | Ampere Magnus Pro इलेक्ट्रिक स्कूटर कंपनीने कम दाम में अच्छा फीचर देकर मार्किट में नया स्कूटर लॉन्च किया है |

Ampere Magnus Pro फीचर से जुडी जानकारी

एम्पेयर मैग्नस बैटरी और पावर की बात करे तो , कंपनी ने स्कूटर में 60V, 28Ah के साथ लिथियम आयन बैटरी पैक शामिल किया है , जो 1200W पावर की क्षमता को उत्पन्न करता है |

इस बैटरी को चार्ज करने के लिए कंपनी ने दवा किया है की सामान्य चार्जर से चार्ज करने पर ये बैटरी , 5 से 6 घंटे में चार्ज हो जाएगी | और रेंज और स्पीड की बात करे तो कंपनी ने दवा किया है की ये स्कूटर फुल बैटरी चार्ज होने पर 53 किलोमीटर प्रति घंटे के हिसाब से 121 किलोमीटर की स्पीड,रफ़्तार प्रति किमी प्रदान करेगी , जो सोचने वाली बात है |

कंपनी ने ये बी दवा किया है की ये स्कूटर 10 सेकण्ड में 0 से लेकर 40 किमी की स्पीड पकड़ लेता है |

एम्पेयर मैग्नस स्कूटर की ब्रेकिंग की बात करे तो , इसमें फ्रंट व्हील और रियर व्हील में ड्रम ब्रेक का कॉम्बिनेशन दिया है | और बेहतर राइडिंग अनुभव के लिए फ्रंट में टेलिस्कोपिक सस्पेंशन और रियर में कोयल स्प्रिंग सस्पेंशन लगाया गया है |

उसके आलावा फीचर में डिजिटल स्पीडोमीटर , डिजिटल ट्रिप मीटर , एंटी थेप्ट अलार्म , रिमोट कीलेस एंट्री , एबीएस ब्रेकिंग सिस्टम और ट्यूबलेस टायर जैसे फीचर दिए गए है | और कंपनी ने 4 आकर्षक कलर के साथ लॉन्च किया है , जिसमे ब्लूश पर्ल व्हाइट, मैटेलिक रेड, गोल्डन येलो और ग्रेफाइट ब्लैक जैसे नए कलर शामिल है |

Ampere Magnus Pro  की Price

एम्पेयर मैग्नस स्कूटर की कीमत कंपनी ने 66,520 रूपये में दिल्ली (Delhi) में लॉन्च किया है |

छोटे गांव के किसान सेठपाल सिंह को मिलेगा पद्मश्री अवार्ड , क्यों जानिए ?

0
padmshri award farmer sethpal singh

भारत विश्व में खेती प्रधान देश है , और भारत में विविध क्षेत्र में उत्कृस्ट योगदान के लिए भारत सरकार पद्म श्री , पद्म भूषण , पद्म विभूषण और भारत रत्न जैसे पुरस्कार देती है | और भारत सरकार ये पुरस्कार ऐसे लोगो को देती है जीन्होने इस देश में या देश के लिए कुछ नया किया हो , आज एक ऐसे ही किसान है जो कृषि व्यवसाय करके ये मुकाम हांसिल किया है |

किसान सेठपाल सिंह

उत्तर प्रदेश राज्य के सहारनपुर जिले में नंदी फिरोजपुर गांव के रेहने वाले शेठपाल सिंह अपने परिवार के साथ खेती कर रहे है , और सेठपाल के पास 40 एकर जमीन है | पहले से ही वे पारंपरिक खेती कर रहे है , लेकिन सन 1995 में शेठपाल ने कुछ नया करनेका फैसला किया | जिसके लिए उन्होंने सराहनपुर जिले में कृषि विज्ञान केंद (KVK) में जाना शुरू किया , जहा उन्होंने कृषि विज्ञान के बारे में विभिन्न विभिन्न क्षेत्र में जानना शुरू किया , और कुछ साल बाद शेठपाल कृषि के प्रयोगो और विधिकरण के विशेषज्ञ बन गए |

विभिन्न प्रकार फसल की खेती

प्रारंभ में शेठपाल सिंह ने फल , फूल और सब्जियों जैसी फसलों को उगाना शुरू किया , फिर उन्होंने (KVK) में परिक्षण और कार्यक्षेत्र के बाद उनकी रूचि बढ़ी , और पशुपाल , सब्जी जैसी फसल उगाना शुरू किया | धीरे धीरे शेठपाल अपनी खेत में कमल , फूल और मशरूम भी उगाने लगे |

शेठपाल ने अंतरफसल के तरीको को अपनाया और अपने क्षेत्र में किसानो के लिए बहोत कुछ किया , एक साल के बाद वो एक के बाद एक सब्जी , गन्ना , फूल , फ्रेंच बीन्स , उड़द , मग , प्यास , सॉफ , आलू , सरसो , दाल , हल्दी और कही तरह की फसल उगाने लगे , शेठपाल ये खेती ऑर्गेनिक आधार पे करते है |

शेठपाल की खेती की अलग विचार धारा

शेठपाल की विशेष बात ये है की वे , कृषि क्षेत्र में कुछ न कुछ नया नया करते रहते है और बिना डरे अपनी खेत में नयी नयी तरह की फसल उगाते रेह्ते है | उन्हों ने बिना तालाव अपने खेत में लिली उगाई है और काफी मुनाफा किया है , शेठपाल सिह अपनी फसल का अस्तबल नहीं जलाते और यही कारण है की खेत की मिट्टी में पोषक तत्वों की कमी नहीं रहती है | उन्हों ने अपने खेत में वर्मी कम्पोस्टिंग और NADEP कम्पोस्टिंग तकनीक स्थापित की है | और वे इसी तकनीक के सहारे हर साल 4 लाख रु एकर के हिसाब से कमाते है |

शेठपाल पद्म भूषण पुरस्कारसे सन्मानित होंगे

शेठपाल सिह को उनके नए नए फसल उगाने के तजुर्बे से अभिनव प्रयोगो के लिए पहले भी राष्ट्रिय स्तर पर पुरस्कार से सन्मानित किया जा चूका है | 2012 में  ICAR की तरफ से जगजीवन राम अभिनव किसान अवॉर्ड और 2014 में 2020 में प्रतिष्ठित संस्था की तरफ से अन्य पुरस्कार से सन्मानित है |

लेकिन भारत सरकार ने उन्हें पद्मश्री अवॉर्ड देने के काबिल समजा , और उन्हें पद्मश्री मिलने की खबर गांव पहोची तो वे ख़ुशी से जूम उठे | और इस बात पर उन्हों ने कहा की  ‘ मैंने न केवल उन्नत खेती की है बल्कि अन्य किसानो में भी जागृत किया है ‘ ये मेरी जिंदगी का सबसे ख़ुशी का दिन होगा |

 

 

एलोवेरा की खेती करें और कमाए लाखों रुपये | Aloe Vera Farming Profit

0
aloe-vera-farming

क्या ? आप जानते है की खेती का व्यवसाय अन्य व्यवसाय से बेहतर क्यों है , क्युकी यह व्यवसाय बारमासी है | और इसके अलावा महेनत और मुनाफा के साथ साथ कमाई भी ज्यादा मिलता है | फिर भी आप औसध की खेती करेंगे तो मालामाल होना निचित है | अब इस खेत में एलोवेरा को ही ले ले , जिसकी मांग आज देश-विदेश में हर जगह ज्यादा तर देखि जा रही है |

स्थानीय रूप से Elovera (एलोवेरा) को “कुवारपाठु” के नाम से भी जाना जाता है , जो आम तोर पर गांव या शहरों के घर में पाया जाता है | क्युकी ये पौधा अवसध के रूप में खूब उपयोगी है , इस लिए बाजार में इनकी मांग लगातार बढ़ती जा रही है | और अगर आप खेती करते है और लाखो रुपये कामना चाहते हो तो आप एलोवेरा की खेती करे |

औषधीय जड़ी-बूटी (Aloe Vera) Elovera (एलोवेरा)

एलोवेरा की खेती इन दिनों भारत में काफी लोक प्रिय हो गई है , और किशन भी इनका पौधा लगाना पसंद करता है | क्योकि इनके पत्ते में बड़ी मात्रा में जेल (लिक्विड) होता है , और उनमेसे आयुर्वेदिक दवा , कॉस्मेटिक प्रोडक्ट , जूस , फेस वॉस , सूखे पावडर , शेम्पू और कही अन्य चीजों को बनाने के लिए किया जाता है | इसी लिए अंतरराष्ट्रीय बाजार में इसकी अच्छी मांग है , जिससे किसान विदेशी मुद्रा भी कमा शक्ते है |

Aloe Vera (एलोवेरा) की खेती 

एलोविरा की खेती में कोई विशेष खर्च नहीं लगता , ये साधारण खेत , सूखे खेत और रेताल प्रदेशो में भी उगाया जा शक्ता है | इसके लिए भेज वाली खेत की कोई जरूरत नहीं है , और इसे कोई विशेष सिंचाई की भी जरूरत होती नहीं है | लेकिन इसे उस जगह उगाया जाता है जहा पानी स्थिर न रेहता हो , एलोविरा की खेती दौरान आप जंतुनाशक दवा का भी उपयोग कर सकते है | और इनकी देख रेख के लिए भी किसी की जरूरत नहीं होती , क्युकी इसे कोई जानवर या प्राणी खा नहीं शक्ता है | इस लिए इसमें भी काम खर्च लगता है |

Aloe Vera (Elovera)  रोपण के लिए सूचना 

एलोवेरा का रोप खेत में अक्टूबर – नवम्बर में लगाया जाता है , हलाकि किसान चाहे तो साल भर में किसी भी समय लगा शक्ते है | रोप लगते समय पौधे की दूर 2 फिट होनी चाहिए , इसे एक बार लगाने के बाद इसे साल में दो बात काटा जा शक्ता है | हलाकि इनके पाक के समय मर्यादा थोड़ी लम्बी है लेकिन ये एलोवेरा काफी मुनाफा कमाकर देता है |

 

एक ऐसा मंदिर जहां खुद से देवी करती है अग्नि स्नान – Idana Mata Ki History

0
Idana Temple history

हमारे देश में ऐसे चमत्कारी मंदिर है जिन्हे देख के आप यकीन नहीं करोगे  | कही मंदिर में खम्भे हवामे जुलते है तो कही मंदिर के दीपक पानी से जलते है | वैसे तो आपने बहोत चमत्कारी मंदिर और स्थलों के बरो में सुना होगा | लेकिन आज हम आपको एक ऐसे ही चमत्कारी मंदिर दिखने जा रहे है | जिस मंदिर में देवी माँ खुद ही अग्नि स्नान करती है |  |

ये मंदिर उदयपुर से लगभग ६० किलोमीटर दूर अरावली की पहाड़ियों में स्थित है |

ये मंदिर राजस्थान के ईडाणा माता मंदिर के नामसे जाना जाता है | यहाँ पर माता के चमत्कार की महिमा बहुत ही निराली है | जिसे जेखने दूर दूर से श्रद्धालु यहाँ आते है | माँ का ये दरबार बिलकुल खुल्ले एक चौक में स्थित है | कहा जाता है इस मंदिर का नाम ईडाणा उदयपुर की महारानी के नाम से प्रसिद्ध हुआ | और ये भी कहा जाता है की ये मंदिर ६०० साल से भी पुराना है |

इस मंदिर में भक्तो की खास आस्था है | ये भी मान्यता है की लकवाग्रस्त यहाँ माँ के दरबार में आकर ठीक होकर जाता है |

इस मंदिर की हैरान करने वाली बात ये है की माँ की प्रतिमा से महीने दो महीने में दो से तीन बार अग्नि अपने आप प्रजलित हो जाती है | इस अग्नि स्नान में माँ की सम्पूर्ण चढ़ाई गयी चुनरिया ,धागे भस्म हो जाते है और इसे देखने के लिए भक्तो का इस मंदिर में मेला लगा रहेता है | लेकिन बात करे अग्नि की तो आज तक कोई जान नहीं पाया की माँ की प्रतिमा से अग्नि कैसे प्रजलित होती है और नहीं तो आज तक किसी ने देखा है |

ईडाणा माता के मंदिर में अग्नि प्रजलित होते ही आसपास के गावो से बड़ी संख्यामे श्रद्धालुओ की भीड़ दर्शन करने के लिए जमा हो जाती है | खास करके नवरात्री के दिन भक्तो की भीड़ बहोत बढ़ जाती है |

मंदिर के पुजारी के कहने अनुसार ईडाणा माता पर अधिक भार होने पर माता स्वयं ज्वालादेवी का रूप धारण कर  लेती है और ये अग्नि धीरे धीरे विकराल रूप धारण कर लेती है और इसकी लपेट १० से २० फिट तक पहुंच जाती है | लेकिन ये अग्नि के पीछे खास बात ये है की आज तक श्रृंगार के अलावा किसी अन्य चीज़ को कोई भी आंच नहीं आती |

भक्तगण इसे देवी माता के अग्नि स्नान कहते है  और इसी अग्नि स्नान के कारन आज तक यहाँ मंदिर नहीं  बन पाया |

ऐसी भी मान्यता है की जो भक्त इस अग्नि स्नान का दर्शन करते है इनकी हर मनोकामना पूरी होती है | यहाँ भक्त अपनी मनोकामना पूर्ण होते ही त्रिशूल चढाने आते है | और साथ ही जिन लोगो को संतान नहीं होती वो दम्पति यहाँ जुला चढाने आते है | और खास करके इस मंदिर के दरबार में लकवा ग्रस्त रोगी आकर ठीक हो जाते है |

भारत में अजीबोगरीब रेलवे स्टेशन के नाम | weird railway station names in india

0
Railway Station Name

रिस्तो का हर किसी जीवन में बहुत महत्व होता है | अगर जीवन है तो रिस्ता है और अगर जीवन नहीं है तो रिस्ता नहीं है | मनुष्य जीवन के लिए रिस्ता ही सब कुछ है , और रिश्ते की शुरुआत घर से होती है |रिस्ता एक ऐसा शब्द है जिनके साथ हम पैदा होते है , और इन्ही शब्दों के साथ हम दुनिया छोड़ देते है | इस दुनिया में बहुत से ऐसे लोग है रिस्तो की अहमियत को समझते है और रिस्तो को प्राथमिकता देते है |

लेकिन कुछ लोग ऐसे भी होते है ,जो रिस्तो को सिर्फ रिस्ता ही बनाये रखते है | उन जैसे लोगो के लिए रिस्ता एक कोमल शब्द है , और उनके लिए रिस्ता बनाना आसान होता है लेकिन रिस्तो को निभाना बहुत कठिन होता है | लेकिन ऐसे ही रिस्तो की जानकारी हम आज आपको देने जा रहे है | जिनके नाम पर रेलवे स्टेशन के नाम रखे गए है |

Railway Station Name

पहले हम रिस्तो के नाम पर गांव का नाम रखते थे | हमारे देश में कई राज्य के गांव रिस्तो पर रखा गया है | आज हम आपको बताने जा रहे है , लेकिन सोचने वाली बात तो ये है की इस सृष्टि का सबसे बड़ा महत्वपूर्ण नाम धरती , और धरती को हम तीनो लोको में माँ कहते है | लेकिन उस माँ के नाम पर कोई नाम नहीं है |

Sali sation

लेकिन हम आपको कुछ ऐसे रिश्ते के बारे में विस्तार से बताने जा रहे है जो रेलवे स्टेशन और गांव के नाम पर रखा गया है | लेकिन हम आपको इस लेख के माध्यम से बता दे की बहन के नाम , पिता के नाम , चाचा के नाम और मौसी के नाम पर भी गांव के नाम रखे गए है | आपको बता दे की पुरे देश में सेंकडो गांव ऐसे है जहा रिस्तो के नाम पर गांव के नाम है |

Bap Station

अधिकांश गांव के नाम नाना और नानी के नाम पर रखा गया है | गुजरात में बड़े भाई को मोटाभाई बोला जाता है , और मोटाभाई के नाम वाले गांव हिमाचल प्रदेश में 3 , राजस्थान में 3 , उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश में एक एक गांव है |

Nana Station

एक रिपोर्ट के अनुशार नाना नाम के गांव हिमाचल प्रदेश में एक , राजस्थान में चार और मध्य प्रदेश में दो गांव नानी के नाम पर है | हमारे देश में हर चीज को रिश्ते के सम्बन्ध में देखा जाता है , क्युकी हमारे देश में रिस्तो की कीमत बहोत हम होती है |

 

 

150 किमी तक की रेंज और टॉप स्पीड के साथ इस Horwin SK3 E-Schooter लॉन्च हुआ

0
Horwin SK3 Electric Scooter

पूरी दुनिया में आज-कल इलेक्ट्रिक कार और इलेक्ट्रिक बाइक का जमाना तेजी से बढ़ता जा रहा है | और कई ऑटोमोबाइल कंपनिया नयी नयी बाइक बाजार में ले आ रही है | जो नयी तकनीक स्पीड , रेंज और फीचर के साथ बाजार में लॉन्च हो रही है और लोक प्रिय है |

Horwin SK 3 Electric Scooter

एक ऐसी ही बाइक कंपनी ऑस्ट्रेलियाई इलेक्ट्रिक मोबिलिटी कंपनी Horwin ने अपना नया E-Schooter मार्किट में लॉन्च किया है | जिसका नाम Horwin SK3 Electric Scooter जो नए फीचर के साथ मार्किट में लॉन्च हुआ है |

यह इलेक्ट्रिक स्कूटर स्पोटी लुक पर बनाया गया है | और डिजिटल लाइटिंग के साथ साथ डिजिटल इंस्ट्रमेंटल पेनल के साथ एक नए कार्यात्मक स्कूटर है | कंपनी का कहना है की ये स्कूटर पूरी तरह से नॉयज लेस है , मतलब ये स्कूटर रफ़्तार पकडने से सिर्फ टायर की आवाज़ सुनाई देगी |  स्कूटर के अंदर सीट स्टोरेज कम्पार्टमेंट के साथ एक अतिरिक्त बैटरी भी रखी जा शक्ति है |

ये  E-Schooter कंपनी ने Horwin SK3 Electric Scooter को डुअल बैटरी के साथ लॉन्च किया है | जिसका मतलब है की स्कूटर में दो बैटरी होंगी , जिसमे एक बैटरी की खतप होते ही दूसरी बैटरी का इस्तेमाल किया जा शक्ता है |

डबल बैटरी के साथ ये स्कूटर की रफ़्तार 150-160 किलोमीटर तक होगी ,Horwin SK3 सिंगल बैटरी में 5 KM प्रति घंटे की रफ़्तार से 30 KM प्रति घंटे की रफ़्तार से दौड़ाया जा सकता है |

Horwin SK3 Electric Scooter किंमत और बैटरी 

बैटरी की बात करे तो , यह बैटरी 72V/32 AH पावर से लेस है | जिसे 5 घंटे से कम समय में चार्ज किया जा सकता है , और अधिकतम मोटर पावर 7.5 KW है | हॉर्विन एसके 3 इलेक्ट्रिक स्कूटर के अन्य फीचर के बारे में बात करे तो इसमें ,क्रूज कंट्रोल, एफओसी एनर्जी और सीबीएस ब्रेक मैनेजमेंट सिस्टम से लैस है |

और ये स्कूटर की किम्मत की बात करे तो , ये स्कूटर कंपनी ने अभी यूरोपियन मार्किट में लॉन्च किया है | और इसकी किम्मत € 3,990 यूरो है , जो भारतीय मुद्रा से लगभग 3.5 लाख रु है |

LIC की नयी स्किम के लिए यहाँ क्लीक करे : Click