औरंगजेब को क्रूर शासक क्यों कहा जाता है ? | Krur Shasak Aurangzeb

0
35
औरंगजेब को क्रूर शासक क्यों कहा जाता है ?

औरंगजेब एक क्रूर और कट्टर पंथी मुसलमान था , जिसने इस्लाम को अपने साम्राज्य में एक मात्र स्वीकार्य धर्म बनाने का सम्पूर्ण प्रयास किया | वो हिन्दू से नफरत करता था ,  कही हिन्दू मंदिर को नस्ट किया और हिन्दू के तीर्थ स्थान पर कर लगा दिया |

औरंगजेब ने कही हिन्दू मंदिर को तुडवाया , और कही हिन्दू मंदिर की मूर्ति को खंडित किया उपरांत हिन्दू धार्मिक अनुष्ठानो पर प्रतिबन्ध और कर लगाने जैसा कदम उठाया | जो एक सांप्रदायिक भेदभाव पूर्ण व्यव्हार और शासन था |

औरंगजेब इतना क्रूर था की , उसने अपनी सत्ता और सिंहासन प्राप्त करने के लिये अपने भाइयो को मरवा दिया | और उनके पिता शाहजहाँ को बंधी बनाकर नजर-कैद कर लिया | उसने विद्रोहिओ को दबाने के लिए क्रूर तरीको का इस्तेमाल किया | जिसमे सामूहिक हत्याएं और यातनाये शामिल थी |

औरंगजेब ने शराब और मादक पदार्थो पर प्रतिबंधित लगा दिया , क्युकी इस्लाम में शराब पीना गैर-वर्जित है और औरंगजेब कट्टर इस्लामी मुसलमान था और अपने इस्लाम धर्म के प्रति कठोर था |

उन्होंने स्त्रीओ पर रोक लगा दी जैसे मुस्लिम स्त्रीओ को पर्दा और बुर्खा पहनना , सार्वजनिक रूप से यात्रा और छूट छाट पर प्रतिबन्ध किया | उसके क्रूर कृत्य का उस समय इस्लाम के प्रति धार्मिक और राजनितिक माहोल का परिणाम था |

औरंगजेब के शासन काल में उन्होंने भारत में धार्मिक और सांप्रदायिक तनाव को बढ़ावा दिया , जो उस समय में धार्मिक और जातिवाद शत्रुता पैदा करवाई | उसकी यही क्रूरता और कट्टरपंथी नीतियो से मुग़ल साम्राज्य के पतन में महत्व का योगदान दिया |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here